रेल टिकट कन्फर्म होगा कि नहीं,

रेलवे का वेटिंग टिकट कंफर्म होगा कि नहीं इसको लेकर यात्री परेशान रहते हैं. उहापोह की स्थिति बनी रहती है. अब उन्हें इस झंझट से मुक्ति मिलेगी.

         http://confirmtkt.com/  बताता है वेट लिस्ट टिकट कन्फर्म होंगी कि नहीं

कैसे डेवलप हुई वेबसाइट
इस वेबसाइट को दो इंजीनियरों दिनेश और श्रीपद ने बनाया है. दिनेश ने एनआइटी, जमशेदपुर से जबकि श्रीपद ने सास्त्र यूनिवर्सिटी, तंजौर से पढ़ाई की है. ये दोनों आइबीएम में काम करते थे. टिकट कंफर्मेशन की परेशानी ङोलने के बाद इसका उपाय खोजने में लग गये और कामयाब हुए. रेलवे बोर्ड इन दोनों को सम्मानित कर सकती है. दोनों युवाओं ने टिकटों के कंफर्म होने के टाइमिंग का पता लगा कर आंकड़ों का विेषण किया. शुरुआत में वेबसाइट की सटीकता(एक्यूरेशी) 88 फीसदी थी जो बढ़ कर 94 फीसदी हो गयी है.

कैसे काम करेगी वेबसाइट
यह वेबसाइट लोगों की सोच की तरह काम करता है. जैसे लोगों को अपने अतीत के अनुभवों से सीख मिलती है. उसी तरह यह वेबसाइट हर ट्रेन की वेटिंग लिस्ट टिकट के इतिहास के आधार पर भविष्यवाणी करेगा. यह इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यह प्रयोगकर्ताओं के अनुभवों को भी समेटता जायेगा.

स्मार्टफोन के लिए स्मार्टएप्प भी
तकनीकी युग में जहां रिचार्ज से लेकर शॉपिंग तक मोबाइल एप्लीकेशन के रूप में मौजूद है, ऐसे में इस वेबसाइट ने भी स्मार्टफोन पर अपना स्मार्ट एप्प जारी किया है. इस वेबसाइट के एंड्रॉयड एप्लीकेशन को मोबाइल फोन में डाउनलोड किया जा सकता है. यह एप्प वेटिंग लिस्ट टिकट के बारे में भविष्यवाणी करके बतायेगा कि आपका टिकट कंफर्म होगा या नहीं. वेटिंग टिकट की स्थिति में यह आपको मेल करके सूचित करता है कि आपके वेटिंग लिस्ट टिकट के कंफर्म होने की संभावना कितनी है. उसके कंफर्म होने पर आपको सूचना भी देता है.
दो युवा इंजीनियरों ने इसका समाधान एक वेबसाइट के रूप में निकाल लिया है. रेलवे बोर्ड इन युवा इंजीनियरों को सम्मानित करने पर विचार कर रहा है.

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

0 comments:

Post a Comment

बनारस शिव से कभी मुक्त नही, जब से आये कैलाश न गये। बनारसी की मस्ती को लिखा नही जा सकता अनुभव होता है। अद्भूद है ये शहर जिन्दगी जीनेका तरीका कुछ ठहरा हुआ है पर सुख ठहराव में है द्रुतविलंबित में नही. मध्यम में है इसको जीनेवाला है यह नगर। नटराज यहां विश्वेश्वर के रुप में विराजते है इसलिये श्मशान पर भी मस्ती का आलम है। जनजन् शंकरवत् है। इस का अनुभव ही आनन्द है ये जान कर जीना बनारस का जीना है जीवन रस को बना के जीना है।
Copyright © 2014 बनारसी मस्ती के बनारस वाले Designed by बनारसी मस्ती के बनारस वाले
Converted to blogger by बनारसी राजू ;)
काल हर !! कष्ट हर !! दुख हर !! दरिद्र हर !! हर हर महादेव !! ॐ नमः शिवाय.. वाह बनारस वाह !!